ड्रग्स की लत : दशानन की इस बुराई पर पानी होगी विजय

Dhun Pahad Ki

रावण के 10 सिर के 10 अर्थ हैं या ये कहें कि वे 10 बुराइयों के प्रतीक माने जाते हैं। पहला काम, दूसरा क्रोध, तीसरा लोभ, चौथा मोह, पांचवां मादा (गौरव), छठां ईर्ष्या, सातवां मन, आठवां ज्ञान, नौवां चित्त और दसवां अहंकार। ड्रग्स भी एक ऐसी है लत है जो हमारे युवाओं को दिग्भ्रमित करने का काम कर रही है। बीते कुछ दशकों में युवाओं द्वारा ड्रग्स लेने के मामलों में बढ़ोतरी हुई है। दशानन के दहन के साथ ही हमें इस बुराई को खत्म करने के लिए संकल्प लेना होगा।

ड्रग वार डिस्टॉर्सन और वर्डोमीटर की रिपोर्ट के अनुसार पूरी दुनिया में मादक पदार्थों का अवैध व्यापार सालाना लगभग 30 लाख करोड़ रुपए का है। वहीं नेशनल ड्रग डिपेंडेंट ट्रीटमेंट (एनडीडीटी), एम्स की वर्ष 2019 की रिपोर्ट बताती है कि अकेले भारत में ही लगभग 16 करोड़ लोग शराब का नशा करते हैं। इसमें बड़ी संख्या महिलाओं की भी है।

यूं तो सरकार ड्रग्स के खात्मे के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास कर रही है लेकिन यह जंग बड़ी है और आपसी साझेदारी, समझदारी से ही इसका अंत होगा। सरकार द्वारा संसद में दी गई जानकारी के अनुसार नशामुक्त भारत अभियान सर्वाधिक असुरक्षित 272 जिलों में कार्यान्वियत किया जा रहा है जिसके अंतर्गत 8000 से अधिक स्वयंसेवी युवाओं के माध्यम से बड़े पैमाने पर सामुदायिक संपर्क किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पढ़िए सिंधु बार्डर पर किसान की हत्या के मामले में क्या बोले कुमार विश्वास और गृह मंत्रालय से क्या की अपील?

कृषि कानून विरोधी आंदोलन स्थल पर समय-समय पर कुछ न कुछ ऐसा हो जाता है जिसकी वजह से वो फिर से चर्चा में आ जाता है। शुक्रवार को सिंधु बार्डर धरना स्थल एक बार फिर से चर्चा में आ गया, इस बार चर्चा का कारण एक युवक की हाथ काटकर […]

Subscribe US Now